Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 2

राजस्थान का डेढ़ा सतरा वाद्य यंत्र

March 2nd, 2011 · 4 टिप्पणीयां · कला एवं शिल्प

आज इंटरनेट पर विचरण करते करते अनजाने मे ही एक बहुत ही शानदार चीज मेरे हाथ लगी ! वो पेश ए खिदमत है ! पीरे हेमोन एक फ्रेंच पेशेवर बांसुरी वादक कलाकार हैं जो दुनिया के कई देशों में जा जा कर वहां की विभिन्न बांसुरीयों या फूंक मार कर बजाने वाले वाद्य यंत्रों का विश्लेषण करते हैं और कुछ नया सीखते हैं ! पिछले पन्द्रह सालों में ये कई जगहों पर गये उनमें से भारत का राजस्थान भी एक था !

वेसे तो राजस्थान संगीत में हर वाद्य का नाम है पर इनमें से एक बडा ही भिन्न है जिसका नाम है डेढ़ा सतरा ! अलगोजेनुमा इस वाद्य में दो बांसुरीयों होती है और वादक को दोनों में फूंक मारकर एक साथ बजाना होता है ! पर दोनो बांसुरीयों में अंगुलिया अलग अलग स्टाइल में चलानी होती है ! एक बांसुरी से बेस ध्वनि निकलती है और दूसरी से स्वरों के उतार चढ़ाव आदि !

अब विडीयो में देखिये ये क्या धुन बजाते हैं ! सुनते ही बडा ही विस्मय होता है कि एक अंग्रेज कलाकार ठेठ देशी मेवाडी धुन “देता जईजो रे दिलडा देता जईजो” बजाता है ! ये कलाकारी जरुर इन्होनें किसी राजस्थानी कलाकार से ही सीखी होगी इसमें कोई आश्चर्य नहीं क्योकि कोई राजस्थानी कलाकार अंग्रेजी धुन तो सीखाने से रहा ! विडियो देखने वाले दर्शक को पता ही नहीं चलता कि कब यह राजस्थानी गाना शुरु हुआ और कब खत्म !

राजस्थान के कू्चे कू्चे में कला बिखरी हुई है बस कमी है तो पीरे जैसे कद्रदानों की ! राजस्थान के कोने कोने में कला और संस्कृति का मेल देखने को मिल जाएगा पर वो कहते हैं ना कि घर की मुरगी दाल बराबर, वैसा ही हो रहा है, सरकार से कलाकारों को व्यापक मदद मिलनी चाहिये !

पीरे हेमोन ने कई म्युजिक सीडीज् रिकार्ड की है और देश विदेशों में कई जगहों पर अपनी प्रस्तुतियां दी हैं ! पीरे हेमोन मेडिवल म्युजिक एनसेंबल के को‍ डायरेक्टर भी हैं ! और अब नये कलाकारों को यह सब सिखाते भी हैं !

और भी कुछ इनके बारे में जानना चाहे तो यह साइट देखेः http://www.medieval.org

टैग्सः ····

4 टिप्पणीयां ↓

  • ओमाराम (परबतसर)

    आपकी यह वेबसाईट देखकर मे ह्रदय विभोर हो गया।आपकी यह डेढा संतरा वाद्य यंत्र कै बारे मे जानकारी बहुत अच्छी लगी।

  • RAJIV MAHESHWARI

    SUNDER JANKARI

  • neha

    बहुत सुंदर धुन ! आनंद आ गया सुनकर, शायद इसलिए भी क्योंकि मैं खुद राजस्थान से हूँ और ये धुन कुछ सुनी सुनी सी लगी |
    क्या आप मुझे ‘देता जईजो रे’ धुन के बोल बता सकते हैं?

  • rajhindiadmin

    बहुत धन्यवाद नेहा जी वैसे इस ही गाने से प्रभावित हो कर एक और गाना बनाया गया है, बडे मिंया छोटे मियां फिल्म मैं, यु ट्युब पर देखियेगा आप |

अपनी टिप्पणी करें, आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, आप हिन्दी या अंग्रेजी में अपनी टिप्पणी दे सकते हैं, साथ ही आप इस वेबसाईट पर और क्या क्या देखना चाहेंगे, अपने सुझाव हमें दें, धन्यवाद