Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 2

भारत का गणतंत्र दिवस

January 26th, 2007 · 2 टिप्पणीयां · उत्सव एवं त्योहार, नई खबरें

हर वर्ष की भांति इस बार फिर से गणतंत्र दिवस आ गया है, यह दिन हे देशभक्ति के गीत सुनने का, देश की आजादी की लडाई में काम आ चुके शहीदों को याद करने का । यह दिन हे स्कुलों व सरकारी कार्यालयों मे बडे लोगों (जो हाई डोनेशन दे सके) द्वारा झण्डारोहण करवाने का, यह दिन हे मोटी तोदं वाले नेताओं के उबाउ भाषण सुनने का, यह दिन हे पी. टी. , परेड व सांस्कृतिक कार्यक्रमों का, यह दिन है तरह तरह की झाँकिया देखने का, यह दिन हे छोटे छोटे बच्चों की परेड का, यह वही दिन हे जब स्कुलों मे मिठाईयां बांटी जाती है, मुट्ठी भर बुन्दी (या कोई भी मिठाई) जो कोई बच्चा शायद अपने घर पर खाए या नहीं, पर ईस दिन तो बच्चों को वो चंद बुन्दी के दाने भी ईतने स्वादिष्ट लगते हें जेसे दुनिया में ईससे बहतर कोई मिठाई ही ना हो ।

तो आईये, आज 26 जनवरी के दिन हम सब मिल कर फिर से एक बार वन्दे मातरम् गाते हैं, व अपने देश भारत के विकास के प्रति हर रुप से कटिबद्ध होने का स्कल्प लेते है, सिर्फ युं ही उपरी मन से नही अपने अन्तर्मन से व अपनी आत्मा से। हम सब मिल कर आज के दिन कम से कम एक छोटा सा प्रण लेवें कि हम अपने देश की राष्ट्रीय सम्पत्ति को किसी भी प्रकार से नुकसान नहीं पहुंचाएँगें ।

सभी को एक बार फिर से हमारे गणतंत्र दिवस की ढ़ेर सारी शुभकामनाएँ ।

संबंधित लेख नहीं मिलेः

टैग्सः ······

2 टिप्पणीयां ↓

  • संजय बेंगाणी

    “हम अपने देश की राष्ट्रीय सम्पत्ति को किसी भी प्रकार से नुकसान नहीं पहुंचाएँगें”

    इस प्रकार के संकल्प कि इन दिनो कुछ ज्यादा ही जरूरत है.

  • Hitendra singh ramaiya

    भारत के इतिहास मेँ 26 जनवरी 1950 का दिन एक महत्वपूर्ण दिन है । इस दिन भारत देश ने संविधान को अपनाया । संविधान के मुताबिक हमारा देश एक संप्रभु , समाजवादी , और स्वाभिमान का पावन दिवस है ।
    26 जनवरी 1950 देश मेँ गणतंत्र की स्थापना की याद मेँ मनाया जाता है । हर साल जाङे की ऋतु मेँ भारत की कोटि – कोटि जनता अपने इस प्यारे पर्व को मनाती है ।
    कोटि-कोटि जनता का प्यारा
    अमर रहे गणतंत्र हमारा॥
    ॥जय हिँद॥

अपनी टिप्पणी करें, आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, आप हिन्दी या अंग्रेजी में अपनी टिप्पणी दे सकते हैं, साथ ही आप इस वेबसाईट पर और क्या क्या देखना चाहेंगे, अपने सुझाव हमें दें, धन्यवाद