Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 2

एक पहेली नसीरुद्दीन शाह की कुछ फिल्मों को लेकर

July 13th, 2013 · 1 टिप्पणी · उलझन

एक पहेली नसीरुद्दीन शाह की कुछ फिल्मों को लेकर

मुझे अभी नसीरुद्दीन शाह की बेस्ट फिल्मे देखने का बुखार चढ़ा हुआ हे, इसी कोशिश में मेनें एक बहुत जोरदार चीज को पकडा | की नसीर साहब कि कुछ फिल्मों में हर हीरोइन वीणा या सितार बजाते हुए गाने गाती है, और गाने भी ए॓से ए॓से की दिल को छू जाए | तो नसीर साहब कि एक से अधिक फिल्मों में ये अभिनेत्रीयां वीणा या सितार बजाती हैं, और जब में नसीर साहब की एक के बाद एक फिल्में देख रहा हूं तो ये सब मुझे एक पहेली के जैसा लग रहा हैं |

जैसे कीः

khli hath

khli hath

फिल्म इजाजत में रेखा गाती हें खाली हाथ शाम आई हे
badi dheere

badi dheere

फिल्म इश्किया में विध्या बालन गाती हैं बडी धीरे जली
khali pyala

khali pyala

फिल्म स्पर्श में शबाना आजमी भी एक गाना गाती हैं खाली प्याला धूंधला दर्पण
तीनो गानो के फोटो भी साथ हैं ताकि याद आ जाये | या तो ये बडा जोरदार इत्तेफाक हैं, या फिर हो सकता है कि इसके पीछे जरुर कोई खास कहानी है | या फिर इत्तेफाक से मुझे नसीरुद्दीन शाह का कोइ धुरंधर फैन कभी मिल जाये, तो वो ही बता सकता हैं कि इस पहेली के पीछे क्या खास बात है |
और एक बात गुलजार साहब के बारे में, वे भी वाकई गुलजार है, फिल्म इजाजत के “मेरा कुछ सामान” गीत में कुछ पंक्तियां लिखी हैं, पंक्तियां भी क्या खूब हैं कि दिल को छू जाती हें |

मेरा कुछ सामान तुम्हारे पास पडा हैः 

एक दफा वो याद है तुमको, बिन बत्ती जब साईकिल का चालान हुआ था |
हमने कैसे भूखे प्यासे बेचारों सी एक्टिंग की थी,
हवलदार ने उल्टा एक अठन्नी दे कर भेज दिया था
एक चवन्नी मेरी थी, वो भिजवा दो……………………….. गुलजार

टैग्सः ······

एक टिप्पणी ↓

अपनी टिप्पणी करें, आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, आप हिन्दी या अंग्रेजी में अपनी टिप्पणी दे सकते हैं, साथ ही आप इस वेबसाईट पर और क्या क्या देखना चाहेंगे, अपने सुझाव हमें दें, धन्यवाद