Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 2

किताबें पढ़ना एक अच्छी आदत

July 7th, 2009 · 4 टिप्पणीयां · शख्सियत

किताबें पढ़ना एक बहुत ही अच्छी आदत है । इस संसार में जो बडे बडे व्यक्तित्व हुए हें, वे सभी बहुत पढ़ते थे । कोई धार्मिक ग्रंथ, तो कोई अपने विषय की पुस्तके, तो कोई रोजाना के समाचार, पढ़ते तो सभी लोग थे ही । सोचो यदि कोई शख्स बचपन से ही किसी मित्र को तोहफे के रुप में यह अच्छी आदत दे दे तो क्या हो सकता है । अच्छी पुस्तके किसी व्यक्ती के लिए बहुत बडी मददगार मित्र होती हैं वहीं गलत पुस्तके विनाश की ओर भी ले कर जाती है ।

सालों पहले कांकरोली से ही एक छोटी सी सात साल की लडकी रिंकू नें अपनी छः वर्षिय मित्र पुर्णिमा कुलातू को यह पुस्तकें पढ़ने की आदत डाल कर, एक अनमोल तोहफा दिया था । वह अनमोल तोहफा जो वे आज भी भुल ना पायी हैं । पुर्णिमा सालों बाद आज एक मां लगभग छः वर्षिय बच्चे की मां है, वे अपनी बचपन की अभिन्न मित्र रिंकू को नहीं भुली हैं । और कुछ इसी प्रकार का तोहफा वे अपने बच्चे को दे रही हैं, उसे अच्छी पुस्तके पढ़ने की आदत डालना सिखा रहीं है ।

इसी विषय में आप सभी को टाइम्स आफ इंडिया के वेब एडिशन पर एक बहुत ही रोचक लेख दिखाना चाहता हूं जो स्वयं पुर्णिमा जी ने लिखा है, टाइम्स आफ इंडिया के सोल करी कालम पर ।
LInk To That Articls

टैग्सः ···········

4 टिप्पणीयां ↓

  • शरद कोकास

    ब्लोग वालो से मेरा कहना यही है कि ब्लॉग पढना कम करे और कितबे अधिक पढें

  • समीर लाल ’उड़न तश्तरी’ वाले

    सही कहा: किताबें पढ़ना एक बहुत ही अच्छी आदत है

  • paritosh

    Aap ka ye prayas sarahaniya he.Aap ko is prayas ke liye badhai.Yadi Samaya de saken to ise roj naye naye lekhon se update karte rahe.

    aap ka shubhchintak.
    Paritosh Paliwal.

  • KPS

    NIRALA G IS BEST AUTHER

अपनी टिप्पणी करें, आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, आप हिन्दी या अंग्रेजी में अपनी टिप्पणी दे सकते हैं, साथ ही आप इस वेबसाईट पर और क्या क्या देखना चाहेंगे, अपने सुझाव हमें दें, धन्यवाद