Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 4

Entries Tagged as 'राजसमन्द जिला'

कुछ बात रूठी रानी के महल के बारे में

October 26th, 2019 · No Comments · प्रमुख दर्शनीय स्थल, राजसमन्द जिला

राजसमंद में राजनगर के उपरी पहाडी पर राजमहल है और वहीं पर अन्नपुर्णा माता जी का मंदिर, हजरत मामू भाणेज की दरगाह और रूठी रानी का महल भी है | आजकल यहां काफी अच्छी रौनक हो गई हैं पर्यटकों के लिये जैसे एक नया स्थल लगभग तैयार हो चुका हैं | गांव सेवाली से होटल […]

[Read more →]

Tags: ··

काकंरोली राजसमन्द में पुस्तकालय, लाईब्रेरी

April 26th, 2018 · 1 Comment · कांकरोली, राजसमन्द जिला

काकंरोली राजसमन्द में पुस्तकालय  लाईब्रेरी: चौंक गये ना | पर सही बात है, काकंरोली शहर में अभी कोई पुस्तकालय या पब्लिक लाईब्रेरी नहीं हैं | बहुत पहले लगभग 30 वर्ष पहले शहर में रोटरी और लायन्स क्लब बडे प्रसिद्ध हुआ करते थे, बडे बिजनस मेग्नेट, व्यवसायी लोग आपस मे जानपहचान बढ़ाने, मनोरर्जन और समाज सेवा […]

[Read more →]

Tags: ···

दूधालेश्वर इको डेस्टिनेशन पाइंट, रावली टाडगढ़ अभ्यारण्य

December 24th, 2017 · No Comments · प्रमुख दर्शनीय स्थल, राजसमन्द जिला

दूधालेश्वर इको डेस्टिनेशन पाइंट पर्यटन हेतु एक बहुत ही अच्छी जगह है जो कि रावली टाडगढ़ अभ्यारण्य, राजसमन्द के भीम तहसील में बरार गांव के नजदीक स्थित हैं | राजनगर से भीम देवगढ़ जाने वाली सडक पर ये लगभग 118 Km दूरी पर ये आता हैं| रावली टाडगढ़ अभ्यारण्य यहां एक बहुत ही प्राकृतिक और […]

[Read more →]

Tags: ······

राजसमन्द झील भरने के पास

August 8th, 2017 · No Comments · राजसमन्द जिला

राजसमन्द झील में पानी का स्तर अब 28 फीटः ताजा अपडेटः आज 30-8-018 तक पानी झील में 28 फीट तक आ पहुंचा हैं और आवक जारी है | यहां के लोगों में राजसमन्द झील के पूरी भरने की आस फिर से जागी है | आज 8-8-017 को यहां पानी का स्तर 24 फीट हो चुका […]

[Read more →]

Tags: ···

नोटो की माया

November 12th, 2016 · 1 Comment · राजसमन्द जिला

वाह मोदी जी, वाह मजे आ गये उन सबको जिनको रुपयों से भयंकर लालच था | पैसा पैसा ना रहा, क्या दिन आया हैं, जिनके पास कम है वे राहत की सांस ले रहे हैं और जो बोरे के बोरे भर के बैठे थे वे एक ही चाल में पटकनी खा गये | एक एक […]

[Read more →]

Tags: ···