Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 4

Entries Tagged as 'राजसमन्द जिला'

कुंभलगढ़ में कुंभलगढ़ फेस्टीवल समपन्न

December 25th, 2009 · No Comments · उत्सव एवं त्योहार, राजसमन्द जिला

कुंभलगढ़ में तीन दिवसीय कुंभलगढ़ फेस्टीवल समपन्न हुआ, यहां रस्साकसी, राजस्थानी नृत्य, साफा बांधो प्रतियोगिता आदि से सभी आगन्तुको को राजस्थानी संस्कृति की छटा का एक नया रंग देखने को मिला ! राजस्थानी नृत्य का ही एक विडीयो प्रेषित है, जो कि कुंभलगढ़ में तीन दिवसीय कुंभलगढ़ फेस्टीवल के दौरान फिल्माया गया था ।

[Read more →]

Tags: ···

बेबू पान वाला

August 29th, 2009 · No Comments · राजसमन्द जिला, शख्सियत

जी हां ! हमारे शहर कांकरोली राजसमंद में एक प्रसिद्ध पान की दूकान है “ग्रेजुएट बिटल्स” उसके मालिक हैं बेबू भाई सिन्धी ! व्यक्तिगत तौर से में इनको पिछले करीब बीस साल से जानता हूं । यानी कि इतनी ही पुरानी इनकी यह दुकान भी है । अपने जमाने में उन्होने काफी पढ़ाई की और […]

[Read more →]

Tags: ·········

नील गगन पर उडते बादल… आ आ आ

August 4th, 2009 · 1 Comment · नई खबरें, फिल्म रिव्यु, राजसमन्द जिला

हरियाली का मौसम फिर से आ चुका है । आज सावन के महिने का आखिरी दिन है । राखी का पवित्र त्योहार भी पास है, और ठीक ठाक सी बारिश के बाद भी यहां आस पास के खेत हरे भरे हो चुके है । पेश है एक बहुत ही उम्दा नगमा ” नील गगन पर […]

[Read more →]

Tags: ······

चुनाव का मौसम फिर से

May 6th, 2009 · 1 Comment · उलझन, नई खबरें, राजसमन्द जिला

लिजीये फिर से चुनाव आ गए हैं । राजसमंद में भी बडी दो मुख्य पार्टीयों नें अपने अपने प्रत्याशी मैदान में उतारें हैं । राजसमंद का भी अब चुनाव की नजर से एरिया काफी बडा हो चुका हैं, और अब इस कारण ही दुसरे तरफ के मतदाता भी अब यहां से खडे होने वाले प्रत्याशियों […]

[Read more →]

Tags: ·····

राटासेन माताजी का मंदिर

February 10th, 2009 · 1 Comment · प्रमुख दर्शनीय स्थल, राजसमन्द जिला

राजसमन्द से सौ किलोमीटर की परिधी में हमने अब तक कोई भी घुमने लायक स्थान नहीं छोडा । मोटरसाईकिल उठाई, एक दो दोस्तों को फोन घुमाया वे भी तैयार और हम भी । थोडा बहुत नाश्ता पानी साथ लिया और ये निकल चले हम घुमने । छट्टी के दिन अक्सर एसा ही रूटीन रहता था […]

[Read more →]

Tags: ····