Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 4

Entries Tagged as 'इतिहास के पन्नो से'

खुब लडी मर्दानी – सुभद्रा कुमारी चौहान

August 7th, 2011 · 1 Comment · इतिहास के पन्नो से

सुभद्रा कुमारी चौहान एक बहुत ही महान कवियत्री थी और उन्होनें स्वयं आजादी की लडाइयों में बढ़ चढ़ कर भाग लिया और देशवासियों को अपने कलम के लेखन से जागृत भी किया | उन्होने खुब लडी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी नाम से एक कविता लिखी जो कि एक अमर कविता है झांसी […]

[Read more →]

Tags: ·······

पुष्प की अभिलाषा – माखन लाल चतुर्वेदी

August 7th, 2011 · No Comments · इतिहास के पन्नो से

बचपन में स्कूल के दौरान पढ़ी माखन लाल चतुर्वेदी की एक कविता पुष्प की अभिलाषा आज मुझे याद आ रही है | आजादी हमें भले ही बहुत आसानी से मिल गई थी, जब हमनें जन्म लिया और पाया कि हम गुलाम नहीं है, और आज हम खुली हवा में सांस ले रहे हैं | पन्द्रह […]

[Read more →]

Tags: ·····

अग्निपथ – हरिवंशराय बच्चन

August 7th, 2011 · No Comments · इतिहास के पन्नो से

हरिवंशराय बच्चन की एक बहुत ही उम्दा कविता है अग्निपथ | अग्निपथ एक फिल्म भी है जिसमे मुख्य किरदार निभाया है उन्हीं के महानायक सुपुत्र अमिताभ बच्चन नें | अग्निपथ को हम कह सकते हैं ये उन लोगों को समर्पित है जो कि आजीवन संघर्ष में लिप्त रहते हैं ए॓से की मानों संघर्ष के सिवा […]

[Read more →]

Tags: ····

हल्दीघाटीः युद्ध ‍| श्याम नारायण पान्डेय

July 30th, 2011 · 3 Comments · इतिहास के पन्नो से

श्याम नारायण पान्डेय एक बहुत ही विशेष कवि हैं जिन्होनें हल्दीघाटी युद्ध जैसे विषय पर बहुत महान रचना की है, आप ये जरुर पढ़ें और अन्य लोगों को भी सुनायें, केवल पठन मात्र से ही रग रग में जोश का सा संचार आप महसूस कर सकते हैं | हल्दीघाटीः युद्ध ‍| श्याम नारायण पान्डेयः निर्बल […]

[Read more →]

Tags: ·······

पीथल और पाथलः कन्हैयालाल सेठिया

July 30th, 2011 · 26 Comments · इतिहास के पन्नो से

राजस्थान के एक बहुत ही होनहार कवि थे कन्हैयालाल सेठिया | वे राजस्थानी में कवितायें, गीत आदि लिखा करते थे, बडा ही उम्दा लेखन था उनका |वे अपनी रचनाओं में शब्दों की ए॓सी जादूगरी जोडते थे कि बस….. आज के जमाने में भी राजस्थान की महिमा का बखान करते उनके गीत व कवितायें बहुत ही […]

[Read more →]

Tags: ············