Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 4

Entries Tagged as 'उलझन'

कांकरोली में नशेखोरी पर लगाम कसनी होगी

June 3rd, 2016 · No Comments · उलझन

कांकरोली में नशेखोरी पर लगाम कैसे कसी जाये : राजसमंद का कांकरोली वैसे तो बडा ही शांत कस्बेनुमा शहर हैं, पर यहां विगत कुछ समय से नशेखोरी की समस्या बढ़ती ही जा रही हैं खास कर के युवाओं में | पता नहीं कौन लोग केसे बडी सुलभता से इन्हें नशे के साजो सामान उपलब्ध करा […]

[Read more →]

Tags: ··

काकंरोली का बस स्टेंड फिर से पुरानी जगह पर जा रहा है

January 15th, 2014 · 2 Comments · उलझन, नई खबरें, राजसमन्द जिला

जी हां सही सुना आपने हमारी नेता किरण जी ने पता नहीं कुछ क्या प्रयास किये हैं कि हमारे शहर काकंरोली का बस स्टेंड फिर से पुरानी जगह पर जा रहा है, बस स्टेंड किसी भी कस्बे या शहर का मेन ए॓रिया होता हैं जहां सभी व्यवस्थाओं का होना जरुरी माना जाता है | सबसे […]

[Read more →]

Tags: ····

चुनावी चर्चा

October 5th, 2013 · No Comments · उलझन

लिजीये फिर से चुनाव होने वाले हैं, और विभीन्न चुनावी चर्चाओं के बाजार गर्म हैं | हर कोई अपनी अपनी चुनावी पार्टी में अपनी खुद की महत्ता को सिद्ध करने मे लगा हुआ है, की हम फलां आंदोलन के भाषण में थे, फलाना रेलीयों में हमने बढ़ चढ़ कर भाग लिये थे, और आलाकमान आप […]

[Read more →]

Tags: ····

एक पहेली नसीरुद्दीन शाह की कुछ फिल्मों को लेकर

July 13th, 2013 · 1 Comment · उलझन

एक पहेली नसीरुद्दीन शाह की कुछ फिल्मों को लेकर मुझे अभी नसीरुद्दीन शाह की बेस्ट फिल्मे देखने का बुखार चढ़ा हुआ हे, इसी कोशिश में मेनें एक बहुत जोरदार चीज को पकडा | की नसीर साहब कि कुछ फिल्मों में हर हीरोइन वीणा या सितार बजाते हुए गाने गाती है, और गाने भी ए॓से ए॓से की […]

[Read more →]

Tags: ······

बदला लेना क्या इंसानी प्रवृर्ति है

July 6th, 2013 · 1 Comment · उलझन

बदला लेना क्या इंसानी प्रवृर्ति हैं हां शायद बदला लेना इंसानी प्रवृर्ति ही तो हैं, मान लो कोई व्यक्ति आपका अहित करता हैं, आपको नीचा दिखाता हैं और आप उसे फुलों के हार पहनाओ , मुझे तो ये ठीक नहीं लगता, शायद इसलिये ही कहा गया है कि बदला लेना इंसानी प्रवृर्ति हैं, जो सब कुछ […]

[Read more →]

Tags: ···