Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 2

कांकरोली का गुप्तेश्वर महादेव मंदिर

January 18th, 2007 · अब तक कोई टिप्पणी नहीं की गई · उत्सव एवं त्योहार, प्रमुख दर्शनीय स्थल, राजसमन्द जिला

राजसमन्द के कांकरोली में राजकीय बालकृष्ण विधाभवन उच्च माध्यमिक विधालय के पास ही स्थित है, गुप्तेश्वर महादेव का पवित्र व बहुत प्राचीन मंदिर । यह मंदिर कांकरोली के महत्वपुर्ण शिव मंदिरों में से एक है । यहां के कई स्थानिय आस्थावान लोग, व्यापारीगण एवं महिलाएँ तो रोजाना प्रातः यहां दर्शनों के लिये गुप्तेश्वर महादेव मंदिर आते है् । यह राजसमन्द की पाल के दुसरी तरफ बना हुआ है व ईस मंदिर की सबसे खास बात यह है कि यह अतिप्राचीन लगभग 950 वर्ष पुराना मंदिर है। मंदिर में अन्दर जाने हेतु एक संकरी सी लम्बी गुफा में से होकर जाना पडता है, और यह गुफा करीब 65 फीट लम्बी है । अन्त में गोलाकार मंदिर आता है, ईसकी परिक्रमा भी है । दर्शनार्थी जो यहां दर्शन के लिये आते हैं, वे परिक्रमा भी करते है । इस मंदिर में जाने व दर्शन मात्र करने से एक बहुत अलग सा एहसास होता है व मन को काफी शान्ति मिलती है ।

महाशिवरात्री के पावन पर्व पर यहां दर्शनों के लिये सर्वाधिक भीड लगती है । उस दौरान यहां एक बडे मेले का सा माहोल होता है, मंदिर के बाहर ही फूल मालाएं, बिल्व पत्र व आकडे के फुलों की माला वाले, नारियल वाले, रंग बिरंगे गुब्बारे वाले, तरह तरह के खिलोने वाले आदि यकायक जाने कहीं से आ जाते है । मंदिर में भी व्यवस्था बनाए रखने के लिये रेलिंग वगेरह लगाई जाती है, ताकि दर्शन करने वाले एक लाईन मे चलते हुए शिवजी के दर्शन कर पाएं । युं तो मंदिर में भगवान शिव की पुजा, श्रंगार, आरती आदि रोजाना ही की जाती है पर ईस महाशिवरात्री के त्योहार के मौके पर खास श्रंगार किया जाता है व फिर दर्शन होते हैं । पुजारी एवं स्वयंसेवी लोगों द्वारा प्रसाद, चरणामृत आदि भी दर्शनार्थीयों को दिया जाता है 

भजन भक्तगण “बम बम भोले” करते रहते है, शिव स्तुति व भजन गाते हैं,  और शिवलिंग के दर्शनों का लुत्फ लेते हैं । कई शौकीन लोग शिवजी का विशेष प्रसाद “भांग” भी लेते हैं व मस्ती में तल्लीन रहते हैं, क्योंकि यह दिन हे ही भोले बाबा एवं उनके भक्तों के नाम । महाशिवरात्री के मौके पर तो यहां दर्शन करना बडा भारी काम हो ए॓सा लगता है ।  लाईन में लगना, धीरे धीरे भीड में से होकर मंदिर मे जाना, कहने का अभिप्राय यह हे कि भगवान भी युं ही दर्शन नहीं देते हें, काफी भक्ती करवाते है । वेसे इतनी भीड में जुते चोरी हो जाने का या फिर बटुआ कोई पार ना कर ले, इसका डर बना रहता है। पर यह भोले बाबा के भक्तगणों की अटूट आस्था है, कि वे कम से कम महाशिवरात्री के इस पावन पर्व तो एक बार शिव दर्शन करें ही करें ।

टैग्सः ······

अब तक कोई भी टिप्पणी नहीं ↓

अपनी टिप्पणी करें, आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, आप हिन्दी या अंग्रेजी में अपनी टिप्पणी दे सकते हैं, साथ ही आप इस वेबसाईट पर और क्या क्या देखना चाहेंगे, अपने सुझाव हमें दें, धन्यवाद