Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 2

हल्दीघाटी का एतिहासिक महत्व

January 1st, 2007 · 65 टिप्पणीयां · प्रमुख दर्शनीय स्थल, राजसमन्द जिला

राजसमंद का अपना एक एतिहासिक महत्व है और यह हमें अदभुत शो्र्य और वीरता की कहानी सुनाता है। राजसमंद के खमनोर गांव के समीप ही है, हल्दीघाटी जो कि हमारे राजस्थान के ईतिहास में एक विशेष स्थान रखता है। हल्दीघाटी का नाम हल्दीघाटी क्यों पडा, इसके पीछे एक बडी लम्बी कहानी है । यह बात है उस समय कि जब लगभग पुरे भारत में मुगल साम्राज्य का आधिपत्य था, पर मेवाड के पराक्रमी और वीर राजाओं ने शुरु से ही किसी की अधीनता स्वीकार नहीं की थी । मुगल बादशाह अकबर नें कुछ राजपुत राजाओं से मित्रता और रिश्तेदारी बढ़ाई ।

मेवाड के महाराणा उदय सिंह के ज्येष्ठ पुत्र महाराणा प्रताप में आत्मसम्मान व स्वाभिमान कूट कूट कर भरा हुआ था अतः उन्होने भी मुगलों की आधीनता स्वीकार ना करते हुए उनसे लोहा लेने की ठानी। उनकी इस जंग में राणा पूंजा, झाला मान सिंह, हकीम खां सुरी एवं हजारों भील उनके साथ थे। भामाशाह जैसे दानवीर ने प्रताप की मदद की, ताकि उनकी सेना में हथियारों व अन्य आवश्यक वस्तुओं की कमी ना पडे। 18 जुन 1576 ई. को महाराणा प्रताप एवं अकबर की शाही मुगल सेना के बीच हल्दीघाटी में एक एतिहासिक युद्ध हुआ। हल्दीघाटी में एक छोटा संकीर्ण दर्रा था, और ये ही आने जाने का रास्ता था । एक बार में सिर्फ एक घुडसवार ही इस रास्ते से निकल सकता था और पहाडी रास्तों व जंगलों से राणा प्रताप की सेना खासी वाकिफ थी ।

महाराणा प्रताप कि सेना ने छापामार युद्ध प्रणाली का उपयोग करते हुए मुगलों के दांत खट्टे कर दिये। मुगलों की तरफ से मानसिंह नें सेना की कमान संभाल रखी थी । दोनों सेनाऔं में घमासान युद्ध हुआ, हजारों सेनिक मारे गये । राणा प्रताप ने वीरता से मुगलों का सामना किया । ईसी दौरान मानसिंह और महाराणा प्रताप का सामना हुआ । महाराणा प्रताप नें भाले से भरपुर वार किया, मानसिंह हाथी के ओहदे में छुप गया, हाथी की सुंड में लगी तलवार से महाराणा प्रताप के स्वामीभक्त घोडे चेतक का एक पेर जख्मी हो गया । एक पांव से घायल होने के बावजुद भी चेतक ने एक बडे से नाले को पार किया और राणा प्रताप को महफुज जगह पहुंचा दिया । वहीं उस स्वामिभक्त घोडे चेतक का प्राणोत्सर्ग हो गया, उस स्थान पर आज एक स्मारक बना हुआ है जो कि चेतक स्मारक के नाम से जाना जाता है ।

विशाल मुगल सेना का सामना महाराणा प्रताप की छोटी सी सेना ने किया चेतक स्मारककहते है कि यहां ईतना खुन बहा की एक स्थान पर तलाई भर गई, यह स्थान रक्त तलाई के नाम से जाना जाता है। दोनो ओर के हजारों सेनिक मारे गये और अंत में यह युद्ध एक अनि्र्णायक युद्ध ही रहा । हजारों सेनिको के खुन से रंगी हल्दीघाटी की मिट्टी अभी भी हल्दी के रंग सी है, और ईसी कारण ईस स्थान को कालान्तर में हल्दीघाटी का नाम दिया गया ।

संबंधित लेख नहीं मिलेः

टैग्सः ·····

65 टिप्पणीयां ↓

  • dev abhimanyu singh

    accha laga par thodi janlkari or milshakti hai kya ki maharana pratap haldi gati ma kaisa lada.

  • nazeer malik

    only historical fact not mithak

  • kayam singh rathore

    haldighati ka itihaas jaankar bahut khushi aur romanch ka anubhav hua.

  • DODIYA HANWANT SINGH NARLAI

    HALDIGHATI KA YUDH hamare liye bahut mahatvapurn tha jisme DODIYA BHIM SINGH JI harawal hue the….1st.NOBLE OF MEWA…DODIYA…

  • Vikram sinh dodiya

    Jay dodiya

  • vijai singh dodia

    bhim singh dodia ki veerata se akbar bhi bahut prabhavit hua.akbar ne mana ki dodia bhim jese ek do yoddha or hote to mugal sena ko haarna pad jata.

  • kamlesh salvi

    chetak ka death place chatri hai ya cabutra ? pls give me answer in my Email ID

  • rajhindiadmin

    प्रश्न के लिये आभार | जहां तक मुझे ध्यान हैं वहां अभी एक छतरी बनी हुई है |

  • Udai singh dodiya narlai

    Maharana pratap bahut sahsi veer the or shat shat Naman h! in veero ko jisne mewad ki munse nichi nhi hone di. Aj k itihas me mewad ka ithash bahut ojjaswi h. Kabhi gulami nhi kabul krne wala yh mewad sury ki trh chamk rha h. Dhany h mewad k veer. Jai mewad

  • Kamlesh Dave

    mujhe maharana pratap ki veerta ki kahani me bahut veerta ka ras he or is se mein bahut he bhavuk hua hu jab bhi udaypur jata hu to unke mujium me jarur jata hu…..jai mewad

  • Kamlesh Dave

    mujhe maharana pratap ki history mere email id par mail kar sakte he kya

  • uday singh

    Muje garv hai me rajput hu…hum sabi rajput bhiyo ko milkr hamre jo rajput bhai hai jo galt disha me ja rahe hai hame unko sahi disha me lana hai aur unko rajput history ke baare me batana chhiye…….

    Kuch jankari agar aur mil sake to hame rajputi rajao ke bare me aur b sikhne ko milega…

  • KAMLESH TIWARI

    Haldi ka yud pure world me sada ke liye famous ho gaye
    and maharana pratap ki virta par pure bhart ko naaj rahega
    or unko bundi sahar ki or se “sat sat namn”
    me chahta hu ki mujhe bundi ka itihas meri gmail par bheje
    thank you

  • RANJAY KUMAR SINGH

    I want to know about the battle of HALDIGHATI in details.

  • pramod barukheri

    Hamein garv hain rajasthani hone ka,or apka ye pryash jo ki ek accha sandesh h,hamein accha laga,

  • ishawar chungade

    JAY RANA JAY RAJPUTAN RAJPUT EAK HO JAYE

  • ankit maheshwari

    meim hamesha s maharana pratap , shaheed bhagat singh jaise maha veero ka founder raha hu jinhone kabi gulami nhi sahi aur puri aajadi k liye lade..mera shat shat naman to bht chota h in veero ko. mein maharana pratap ki puri sachhi kahani janna chahta hu aur yh bhi ki jo sony tv serioul maharana pratap ka in dino aa raha h kya vo atleast 75% sach h ya drama. plz muje meri dono querries mail kar dijiye

  • sanskar sharma

    maharana pratap jaisa yoddha hamesha ke liye itihas mein amar ho gaya hai. haldighati ke yuddh ka parinam meri gmail id par bheje. THANK YOU

  • Ganesh Bhandari

    Maharana pratap ek maha yodha tha.kehte he ki WO apane sath do talware Rakhate the koi bhi unhe chunoti dene par wo apani talwar nikal kar unhe de dete the or yudh karate the.or WO kabhi bhi nihtte par war nahi karate the.ase mahan yodha tha maharana pratap.jisne apani matra bhumi ki Raksha ki.ASE yodha ko me spans sar jhukake pranam kart a hu……

  • Ganesh Bhandari

    Maharana pratap ka bhala 72 kg.ka tha or kawach 82 kg.or talwaro ko milake 208 kg. Ho jata tha itna bhar uthakar WO dushmano ke with din bhar yudh karte the kehte he ki WO apani ungaliyo me sikka masal kar lamba kar dete the …..
    Maharana pratape itane takat war yodha the..Mawad ke is maha yodh ko Ganesh Bhandari pranam….ho sake to iske bare me or jankari hame de…

  • Harpalsinh vala

    maharana pratap amar he ……… jay ek ling ji .. jay mevad … jay mataji

  • manu singh

    Thx 4 giving us one of among all the bravioust man in rajputs truly we are the proudy community and I proud to b a rajput i am the decendents of great allah udals do you plz send some more details of mewar
    Itihas sirf rajputon ka tha baki kisi ka koi itihas nahi …….

  • Dikshant Rajput

    mharana pratap ji ko sth-sth naman . kya veer vyaktitv tha unka..kaash…unke jse ek or hote to aaj mugelo ka naam or nisaan hi mit jaata . hmari maa bhno ko johr kr apne pran na gwane hote.aao bhi logo milkar apna barchacv majboot kre .apne aap ko hr feild me age rkhe .apni unity ko mjboot kre . muslim ldki se sadi ka virodh n kre …support kre.jai mharana pratap.

  • vikram singh nathawat

    Very good

  • manu singh

    Its truly a proud moment 4 every rajput but plz correct me after chetak death and when rana pratap escape tbeir what heppend to the rest of the soldiers of pratap

  • udaibhan

    jai rajasthan i like a verry much haldhi vally war

  • Premchandra kumar patel

    Haldigati ka kahani bahut sundar laga

  • amardeep

    hame haldi ghati ke yudda ki detail bheje…

  • Ganpat singh jhala

    haldighati ko yudh kevl mevad hi nhi blki pure bharat ke itihas me mhtvpurn that .muje is bat KA dukh he ki hajaro rajputo ke blidan ke bavjud hum jit nhi ske.rajputo ki apsi ladai ne hmko hmesa jitne se roka.Akbar is bat ko janta ta ki rajputo ko sidhi ldai me jitna muskil hi isliye usne hmko aps me ldaya .

  • Ganpat singh jhala

    is yudh me 18000 rajput or 8000 bhilo ni Akbar ki 5 lakh sena se samna kiya that.itna km hone ke baad bhi rajputo or bhilo ne muglo ko jitne nhi diya .

  • Pranav

    kya aap muje haldighaty ke yudh me jis guffa me apna sastragar banaya tha us gufa ka nam bata sakte ho?

  • Amit Rai

    Kripaya mujhe haldighati ke yudh ke baare me detail se bataye mai aapka bahot aabhari rahunga

  • dodiyakuldeepsinh

    Jay dodiya jay bhimsinghji jay rajputana

  • kalyan singh dodiya

    Hame bheem singh ji par garv hai

  • pallavi

    jai bharat ……
    youth needs to learn form our history & to be brave like Maharana Pratap

  • Dodiya Amitsinh

    Jai mataji ki…. Aapshe vinti kartahu ki krupya aap Dodiya vansh ka etihash(history) bheje.
    Hukam…..

  • Rajeev Sood

    Yes! Vakia hi Maharana Partap Bharat ke veer puter the. Unko aaj bhi Sara Bharat parnam karta hai. Aaj ki generation ko Maharana Partap se kuch sikhna chaiye.

  • SARVAIYA RUSHIRAJ SINH

    BHARAT KA VIR PUTRA MAHARANA PRATAP
    JO SONY PAR SIRIYAL AA RAHI HYE! VO PURI KI PURI SACH HE KYA?
    ANSAR PLZ

  • SARVAIYA RUSHIRAJ SINH

    JAY MATAJI
    JAY RAJPUTANA

  • SARVAIYA RUSHIRAJ SINH

    MAHARANA PRATAP NAME OF 7 PEDHI LIST

  • aviral singh rathore

    Bahut garv ho Raha ha ki Hamare purvajo ne Bahut bahaduri sa ladai ki mugal o ka sath

  • Bharat mali

    Rajsthan ki bhumi ko me bar bar naman karta .hu

  • srishti sawarkar

    yah shourya gatha veer ras se ot -prot hai.

  • vikas

    Haldi ghati mai mahrana Pratap ka senapati kaun tha

  • abhijeet kumar

    Mujhe gravh hai ki humko patap jaise aadharse mile hai.

  • Vikram Singh

    Maharana pratap duniya ke ek mahan yodha the jinki veerta ki parsansha jitani bhi Kare utani kam hai

  • Sukesh tiwari

    Acha lga lekin kya yh bta skte h ki kis karn se yh udh lada gya

  • Rajesh Kumar Boori

    Haldi ka yud pure world me sada ke liye famous ho gaye
    and maharana pratap ki virta par pure bhart ko naaj rahega
    or unko bundi sahar ki or se “sat sat namn”
    me chahta hu ki mujhe bundi ka itihas meri gmail par bheje
    thank you

  • Dhruv sharma

    “श्री महाराणा प्रताप के बारे मे कुछ जाने कुछ
    अन्जाने तथ्य”
    नाम – कुँवर प्रताप जी {श्री महाराणा प्रतापसिंह
    जी}
    जन्म – 9 मई, 1540 ई.
    जन्म भूमि – राजस्थान कुम्भलगढ़
    पुन्य तिथि – 29 जनवरी, 1597 ई.
    पिता – श्री महाराणा उदयसिंह जी
    माता – राणी जीवत कँवर जी
    राज्य सीमा – मेवाड़
    शासन काल – 1568–1597ई.
    शा. अवधि – 29 वर्ष
    वंश – सुर्यवंश
    राजवंश – सिसोदिया
    राजघराना – राजपूताना
    धार्मिक मान्यता – हिंदू धर्म
    युद्ध – हल्दीघाटी का युद्ध
    राजधानी – उदयपुर
    पूर्वाधिकारी – महाराणा उदयसिंह जी
    उत्तराधिकारी – राणा अमर सिंह जी
    अन्य जानकारी – श्री महाराणा प्रताप सिंह
    जी के पास एक सबसे प्रिय घोड़ा था,
    जिसका नाम ‘चेतक’ था।
    “राजपूत शिरोमणि श्री महाराणा प्रतापसिंह जी”
    उदयपुर,
    मेवाड़ में सिसोदिया राजवंश के राजा थे।
    वह तिथि धन्य है, जब मेवाड़ की शौर्य-भूमि
    परमेवाड़-मुकुट मणि
    राणा प्रताप जी का जन्म हुआ। श्री प्रताप जी का
    नाम
    इतिहास में वीरता और दृढ प्रण के लिये अमर है।
    श्री महाराणा प्रताप जी की जयंती विक्रमी सम्वत्
    कॅलण्डर
    के अनुसार प्रतिवर्ष ज्येष्ठ, शुक्ल पक्ष तृतीया
    को मनाई जाती
    है।
    श्री महाराणा प्रताप सिंह जी के बारे में कुछ रोचक
    जानकारी
    :-
    1… श्री महाराणा प्रताप सिंह जी एक ही झटके में
    घोड़े समेत
    दुश्मन सैनिक को काट डालते थे।
    2…. जब इब्राहिम लिंकन भारत दौरे पर आ रहे थे
    तब उन्होने
    अपनी माँ से पूछा कि हिंदुस्तान से आपके लिए क्या
    लेकर
    आए| तब माँ का जवाब मिला ” उस महान देश की
    वीर भूमि
    हल्दी घाटी से एक मुट्ठी धूल लेकर आना जहाँ का
    राजा अपनी
    प्रजा के प्रति इतना वफ़ादार था कि उसने आधे
    हिंदुस्तान के
    बदले अपनी मातृभूमि को चुना ”
    बदकिस्मती से उनका वो दौरा रद्द हो गया था |
    “बुक ऑफ़
    प्रेसिडेंट यु एस ए ‘किताब में आप ये बात पढ़
    सकते है |
    3…. श्री महाराणा प्रताप सिंह जी के भाले का
    वजन 80
    किलो था और कवच का वजन 80 किलो कवच ,
    भाला, ढाल,
    और हाथ में तलवार का वजन मिलाये तो 207 किलो
    था।
    4…. आज भी महाराणा प्रताप की तलवार कवच
    आदि सामान
    उदयपुर राज घराने के संग्रहालय में सुरक्षित हैं |
    5…. अकबर ने कहा था कि अगर राणा प्रताप मेरे
    सामने झुकते है
    तो आधा हिंदुस्तान के वारिस वो होंगे पर बादशाहत
    अकबर
    की ही रहेगी पर श्री महाराणा प्रताप जी ने किसी की
    भी
    आधीनता स्वीकार करने से मना कर दिया |
    6…. हल्दी घाटी की लड़ाई में मेवाड़ से 20000
    सैनिक थे और
    अकबर की ओर से 85000 सैनिक युद्ध में सम्मिलित
    हुए |
    7…. श्री महाराणा प्रताप जी के घोड़े चेतक का
    मंदिर भी
    बना हुआ हैं जो आज भी हल्दी घाटी में सुरक्षित है
    |
    8…. श्री महाराणा प्रताप जी ने जब महलो का
    त्याग किया
    तब उनके साथ लुहार जाति के हजारो लोगो ने भी घर
    छोड़ा
    और दिन रात राणा जी कि फौज के लिए तलवारे
    बनायीं इसी
    समाज को आज गुजरात मध्यप्रदेश और राजस्थान
    में गड़लिया
    लोहार कहा जाता है मै नमन करती हूँ एसे लोगो को
    |
    9…. हल्दी घाटी के युद्ध के 300 साल बाद भी
    वहाँ जमीनों में
    तलवारें पायी गयी। आखिरी बार तलवारों का जखीरा
    1985
    में हल्दी घाटी में मिला |
    10….. श्री महाराणा प्रताप सिंह जी अस्त्र
    शस्त्र की
    शिक्षा “श्री जैमल मेड़तिया जी” ने दी थी जो
    8000 राजपूत
    वीरो को लेकर 60000 से लड़े थे। उस युद्ध में
    48000 मारे गए थे
    जिनमे 8000 राजपूत और 40000 मुग़ल थे |
    11…. श्री महाराणा प्रताप सिंह जी के देहांत पर
    अकबर भी
    रो पड़ा था |
    12…. मेवाड़ के आदिवासी भील समाज ने हल्दी
    घाटी में
    अकबर की फौज को अपने तीरो से रौंद डाला था वो
    श्री
    महाराणा प्रताप को अपना बेटा मानते थे और राणा
    जी
    बिना भेद भाव के उन के साथ रहते थे आज भी
    मेवाड़ के
    राजचिन्ह पर एक तरफ राजपूत है तो दूसरी तरफ
    भील |
    13….. राणा जी का घोडा चेतक महाराणा जी को
    26 फीट
    का दरिया पार करने के बाद वीर गति को प्राप्त हुआ
    | उसकी
    एक टांग टूटने के बाद भी वह दरिया पार कर गया।
    जहा वो
    घायल हुआ वहीं आज खोड़ी इमली नाम का पेड़ है
    जहाँ पर चेतक
    की म्रत्यु हुई वहाँ चेतक मंदिर है |
    14….. राणा जी का घोडा चेतक भी बहुत
    ताकतवर था उसके
    मुँह के आगे दुश्मन के हाथियों को भ्रमीत करने के
    लिए हाथी
    की सूंड लगाई जाती थी । यह हेतक और चेतक नाम
    के दो घोड़े थे
    |
    15….. मरने से पहले श्री महाराणाप्रताप जी ने
    अपना खोया
    हुआ 85 % मेवाड फिर से जीत लिया था । सोने
    चांदी और
    महलो को छोड़ वो 20 साल मेवाड़ के जंगलो में घूमे
    |
    16…. श्री महाराणा प्रताप जी का वजन 110
    किलो और
    लम्बाई 7’5” थी, दो म्यान वाली तलवार और 80
    किलो का
    भाला रखते थे हाथ मे।
    शेयर करो मित्रों
    महाराणा प्रताप के हाथी
    की कहानी।:—
    मित्रो आप सब ने महाराणा
    प्रताप के घोंड़े चेतक के बारे
    में तो सुना ही होगा,
    लेकिन उनका एक हाथी
    भी था।
    जिसका नाम था रामप्रसाद।
    उसके बारे में आपको कुछ बाते बताता हूँ।
    रामप्रसाद हाथी का उल्लेख
    अल- बदायुनी ने जो मुगलों
    की ओर से हल्दीघाटी के
    युद्ध में लड़ा था ने
    अपने एक ग्रन्थ में कीया है।
    वो लिखता है की जब महाराणा
    प्रताप पर अकबर ने चढाई की
    थी तब उसने दो चीजो को
    ही बंदी बनाने की मांग की
    थी एक तो खुद महाराणा
    और दूसरा उनका हाथी
    रामप्रसाद।
    आगे अल बदायुनी लिखता है
    की वो हाथी इतना समझदार
    व ताकतवर था की उसने
    हल्दीघाटी के युद्ध में अकेले ही
    अकबर के 13 हाथियों को मार
    गिराया था
    और वो लिखता है की:
    उस हाथी को पकड़ने के लिए
    हमने 7 बड़े हाथियों का एक
    चक्रव्यू बनाया और उन पर
    14 महावतो को बिठाया तब
    कही जाके उसे बंदी बना पाये।
    अब सुनिए एक भारतीय
    जानवर
    की स्वामी भक्ति।
    उस हाथी को अकबर के समक्ष
    पेश
    किया गया जहा अकबर ने
    उसका नाम पीरप्रसाद रखा।
    रामप्रसाद को मुगलों ने गन्ने
    और पानी दिया।
    पर उस स्वामिभक्त हाथी ने
    18 दिन तक मुगलों का नही
    तो दाना खाया और ना ही
    पानी पीया और वो शहीद
    हो गया।
    तब अकबर ने कहा था कि;-
    जिसके हाथी को मै मेरे सामने
    नहीं झुका पाया उस महाराणा
    प्रताप को क्या झुका पाउँगा।
    ऐसे ऐसे देशभक्त चेतक व रामप्रसाद जैसे तो यहाँ
    जानवर थे।
    इसलिए मित्रो हमेशा अपने
    भारतीय होने पे गर्व करो।

  • mohan shukla

    Mujhy mharana pratap ki moot kese hue.we keske hato Mary gay our unky hathi ram prsad Ke vary me janna he.krapya mere email par ya jankari mujhy bhyja…MOHAN shukla

  • mohan shukla

    Mhranaji Ke youdh Ke bare me padkr man Roman CIT hogaya dhnsy he mewad Ki dhrti…jai mewad

  • uday

    apni mulk ya vatan shabhi ko pyara hota hai….
    hame apne awam ko suporrt krni chaii…….ise ke leyee jaan bhi dene ke ly tayyar rahanna chaii…..thanx

  • Virendra singh sisodiya

    maharana pratap ki death kisi ke hatho se nhi hue kyuki unko marne vala koi pedha hi nhi hua tha. maharana pratap ki death accident se hue thi yah accident tha vah ek yudh me kisi senapati par teer ka nisana laga rhe the aur durbhagy accident se vah teer maharana pratap ke seene par aakr laga aur uske bad maharana pratap bimar rhne lag gye aur unki death ho gai ab aap soch lo ki ek teer jo vah kaman pr laga rhe the air accidentally vah teer kaman se chur kr unke seene pr lag gya aur unke deat ho gai jo maharana pratap 7 feet hight 108 kg weight and 208 kg ke hadiyar and kava lekr yudh krte the unko vahi teer yadi kaman se nikal jata aur kisi senapti ya dusman ko lagta to uska kya hota hoga

  • Virendra singh sisodiya

    muje garv he ki me ek rajput kul me peda hua hu aur usse jyada muje is baat pr garv and gamand he ki me sisodiya vans jo apni veerta ke loye pure world me famous he us kuk me peda hua hu jin sisodiya vans ne kabhi har nhi mani gulami nhi ki aur me un rajput sardaro and bhilo par bhi garv krta hu jinhone hamara sath diya jese jhala, panwar, and sisodiya vans ke bhai band jese chundawat, dodiya, aur me man singh jhala, dodiya ji, patta singh sisodiya jaymal.singh mertiya kalla mertiya pr bhi garv krta hu jinke yudh kosal se akbar bhi darta tha
    muje garv he maharana pratap pr jinhone maan singh kachawa jo mewar ka raja tha aur akbar ka senapati usko kahi bar isliye chora ki use sadbudhi aa jaye aur vah akbr ka sath chor de

  • Virendra singh sisodiya

    me ek aur baat maharana pratap ji ke bare me bata du ki akbar maharana pratap ji se itna darta tha ki use raat ko nind nhi aati thi aur vah apni sena ke bich me sota tha use dar tha ki kahi pratap ji raat ko use marne nhi aa jaye aur aapko ek baat aur bata du maharana pratap ji ne akbar ko kasi me ek bar chot diya jab vah meera maa ko lene kasi gye the vaha akbar unhe mil gya unke bich yudh hua akbar har gya aur pratap ji ne use chor diya dusri bar jab phool kanwar jodha marwar ki rajkumari and ajabde panwar wife of pratap ji ki saheli jo pratap ji se shadi krna chahti thi usko akbar bji pasand krta tha usne dokhe se phool kanwar ka hath pakd liya is baat pr prtap ji aur akbar ka yudh hua jisme pratap ji ne nihath use haraya aur akbar ke pas talwar thi aur akbar ke sath us samy ka verr yodha behram kha bhi tha in dono ke pas talwar thi aur pratap ji nihate the lekin fir bhi ekling ki dua se pratap ji ne dono ko hara diya aur yah dono kutto ki tarah bhag gye iske bad akbar ne kisi molvi se pucha ki me pratap ji ko hara sakta hu kya to molvi ne kaha ki tu kabhi bhi yudh me pratap ke samne mat jana nhi to mara jayega iske bad akbar kabhi bhi pratap se yudh nhi kiya vah har yudh me aone senapti aur sipahiyo ko bhej deta tha aese th hamare pratap

  • Virendra singh sisodiya

    maharana pratap ji ke pas do janwar the jinhe pratp ji janwar nhi aone pariwar ka mante the aur yah janwar bhi pratap ji par jaan dete the aur in janwaro ne real me pratap ji ke liye jaan de di
    1. chetak name ka horse jo swamibhat tha isne haldi ghati me gayal pratap ji ko 24 feet khai se khud kr surkhist pahuca diya aur apni jaan de di kaha jata he ki chetak ke muh ke aage ek lakdi ki hathi ki sund laga di jati thi jisse hathi dar jate the kyuki uski hight bhi hathi se jyada nhi to kam bhi nhi thi
    2. dusra janwar ek ramprasad name ka hathi jisne ek yudh me 13 hathiyo ko mar diya tha use akbar ne kabhu me lane ke liye yak chakviu banaya aur use kabhu me krke apne rajy me laye vaha is hathi ko gaas and banana diye lekin is hathi ne use chua tak nhi and 18 day bina khaye piye raha aur sahid ho gya tab akbar ne apne seniko ko kaha jiske janwar ko me nhi jhuka paya to us pratao ko kese jhukauga aese tha hamare pratap ke janwar us pratap pr kitno ne apni jaan de di lekin use jhukne nhi diya aur aakhir me pratap ji apne hi teer se accidentally veer sahid ho gye tab akbar bhi roya aur kaha ki tu dhany he pratap aur kaha jata he yadi pratap ji 1597 me sahid nhi hote to akbar ke marne ke bad muglo ko bharat se bhaga dete

  • Virendra singh sisodiya

    maharana pratap ji ne 28 year tak jagal me rhe aur apne mewar ko 80% vapis jeet liya
    jai rajputana jai maharana pratap jai veer sahid jai mewar jai ekling ji

  • Virendra singh sisodiya

    yadi maharana pratap ji ki aur jankari chahiye to call me.

  • parmar vikas

    Maharana pratap ki puri khani in hindi

  • vishal singh

    maharana pratap ki maut kaise hui thi .

  • jay desai

    jab rana pratap ni haldhi ghati mein ladai ki bhuhat aache lade

  • Gopal singh dodiya

    Rajputo ka itihas jo hamari matra bhumi ki our aakh utahane se pahle ak bar kya hajaar baar sochane per majbur kar dega.

  • abhishek daruan

    maharana pratap ke kahani sunkar bohut khushi hui…sachme unpe garv hai aur asa veer bar bar nhi malte sachme muje unpe garv hai….asa veer yodha ko akbar jesa raja v darta tha aur kabhi khud yud nhi kia….. jai…jai….jai

  • abhishek daruan

    asa veer yodha ko thoda sa scope milta to sara hindustan ka king ye hote….. jai pratap….ye hain hamare hero desh ke

  • rajratna anant padale

    hundustan me do veer hai ek maharashtra ke shivajee maharaj aur dusare maharana pratap .agar sabhi rajputone maharana pratap sath de hotee to mughal samrajya jaldi hee khatma ho jata tha

अपनी टिप्पणी करें, आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, आप हिन्दी या अंग्रेजी में अपनी टिप्पणी दे सकते हैं, साथ ही आप इस वेबसाईट पर और क्या क्या देखना चाहेंगे, अपने सुझाव हमें दें, धन्यवाद