Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 2

काकंरोली का बस स्टेंड फिर से पुरानी जगह पर जा रहा है

January 15th, 2014 · 2 टिप्पणीयां · उलझन, नई खबरें, राजसमन्द जिला

जी हां सही सुना आपने हमारी नेता किरण जी ने पता नहीं कुछ क्या प्रयास किये हैं कि हमारे शहर काकंरोली का बस स्टेंड फिर से पुरानी जगह पर जा रहा है, बस स्टेंड किसी भी कस्बे या शहर का मेन ए॓रिया होता हैं जहां सभी व्यवस्थाओं का होना जरुरी माना जाता है |
सबसे पहले पुराना कांकरोली का बस स्टेंड था, फिर धोइन्दा के बस स्टेंड को डीपो बनाया गया जिसकी क्या दशा है ये हर कोई शहरी जान रहा है, फिर जनता की जागरुकता और शहरवासियों की लडाइयों के बीच कुछ समय बस स्टेंड को कमलतलाई के पास खाली जगह पर स्थापित किया गया था, उसके बाद इसे हमेशा के लिये जे.के मोड. स्थित तिराहे पर ले जाया गया, कम जगह के कारण यहां कुछ दुर्घटनाएं भी हुई, अब प्रशासन फिर जागा हैं | और हंसने की बात है कि लोगों ने इसे लंगोट तिराहे का नाम दे दिया है | लंगोट तिराहे या लंगोट चौराहे के इस उपनाम ने तो हमारे प्रसिद्ध शहर को दूसरे लोगों की नजर में एक मजाक सा बना दिया |
और अब लोग एक दूसरे को बधाइयां दे रहे हैं कि बस स्टेंड को फिर से पुराने बस स्टेंड पर ले जाया जा रहा हैं |

अब बात ये है कि लोग शहर में बस स्टेंड की जगह को बार बार परिवर्तित क्यों करते हैं ?

पुराने बस स्टेंड के जे.के. मोड चले जाने से पुराने बस स्टेंड पर दुकानों की ग्राहकी में फर्क पड गये, प्रोपर्टी की वेल्यू कम हो गई वही जे.के मोड के वहां दुकानों मकानों के भाडे यकायक बढ़ गये |
लोग ये भी कहते है कि धोइंदा के किसी स्थानिय नेता ने अपने कार्यकाल में रहते बस डिपो को धोइंदा रखवा दिया जहा रसूखदार लोगों की जमीनें थी जमीनों के भाव बढ़े और धोइंदा जैसे गांव में कुछ सरकारौ प्रोजेक्ट आया ये बडी बात थी |
यहां शहर में पहले बस स्टेंड के परिवर्तित हो कर जे.के मोड. स्थित जगह पर जाने से जा जाने कितने आम शहरी ग्रामीण लोगों को दिक्कते आयीं | क्यों नही सत्ता के लोगों व प्रशासन के कारिन्दों मे कुछ सूझबूझ हो जिससे एक बार में ही ए॓सा निर्णय लिया जाए की जो हमेशा के लिय॓ लाघु रहे |
कुछ प्रशासनिक अधिकारीयों व स्थानिय नेताऔं के अदूरदर्शितापूर्ण कृत्यों से ही आम आदमी सालों तक परेशान होते रहे | क्या अब ये सब करने का कुछ तुक है ?

टैग्सः ····

2 टिप्पणीयां ↓

  • Ranjeet Singh Chouhan

    Sry for late coming… but dhoinda is good for bus stand there is required space for bus stand..

  • mukul

    Dhoinda is….batter then Kankroli because where big land for bus stand and peace fool envarment

अपनी टिप्पणी करें, आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, आप हिन्दी या अंग्रेजी में अपनी टिप्पणी दे सकते हैं, साथ ही आप इस वेबसाईट पर और क्या क्या देखना चाहेंगे, अपने सुझाव हमें दें, धन्यवाद