Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 2

हल्दीघाटी का युद्ध – महाराणा प्रताप, Maharana Pratap and War of Haldighati

September 22nd, 2011 · 5 टिप्पणीयां · इतिहास के पन्नो से, प्रमुख दर्शनीय स्थल

हल्दीघाटी का युद्धः

haldighati darrah

haldighati darrah

मुगलों और महाराणा प्रताप की सेना के बीच हल्दीघाटी में एक ए॓तिहासिक युद्ध हुआ | युद्ध बडा घमासान था | युद्ध के दौरान दोनों सेनाओं के हजारों सेनिक मारे गये, पर यह युद्ध अनिर्णीत ही रहा |

हल्दीघाटी में महाराणा प्रताप के प्रिय अश्व चेतक के बलिदान को क्या कोई भूल सकता है | महाराणा प्रताप के प्रिय घोडे चेतक का बलिदान आज के समय में भी प्रासंगिक हैं ‌|

पर इसके पश्चात भी महाराणा प्रताप नें संघर्ष करना नहीं छोडा और अपने भील सहयोगियों की सेना के साथ अरावली की पहाडीयों में छिप छिप कर वे मुगल सेना पर बारम्बार वार करते रहे | मेवाड के भील जाति के लोग अपनी निष्ठा ‌और निश्छल प्रेम के कारण जाने जाते हैं ‌| भीलों नें प्रताप का पल पल साथ दिया |

इसी कारण ही महाराणा प्रताप को राजस्थान और‌ मेवाड में देवता तुल्य माना जाता रहा हैं | उन्हें प्रातः स्मरणीय भी कहा जाता है, यह मेवाड के लोगों की असीम श्रद्धा और भावना है |

महाराणा प्रताप का संघर्ष एक व्यक्ति, जाति विश॓ष या किसी छोटे बडे भूभाग का संघर्ष नहीं था, यह एक तरह का स्वाधीनता का संघर्ष था, हजारों लोग उनके साथ थे, और उन्हे आम जनता का सहयोग प्राप्त हुआ | प्रताप जनता के प्रति वफादार थे औ‌र स्वहित की बजाय पूरी प्रजा के हित की बात करते थे |

टैग्सः ·····

5 टिप्पणीयां ↓

  • शंकर सिंह

    कृपया जानकारी को और विस्तृत करने का पर्यत्न करे

  • Rajesh

    Waakai bharat ke is veer putra ne maati ka karz chukaate hue ham sabhi per ek ehsaan kiya, agar Pratap ghutne tek dete toh Bharat per Muslim Samrajya ka adhikar ban jaata.
    Jai mewar
    Jai Pratap

  • ketan kumawat

    जय मेवाङ

  • hemant

    Jai mewar

  • VIKRANT SHARMA

    शानदार शायरी हैं।

अपनी टिप्पणी करें, आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, आप हिन्दी या अंग्रेजी में अपनी टिप्पणी दे सकते हैं, साथ ही आप इस वेबसाईट पर और क्या क्या देखना चाहेंगे, अपने सुझाव हमें दें, धन्यवाद