Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 1

भगवान सब देख रहा है !

April 4th, 2008 · नई खबरें, राजसमन्द जिला

पिछले दो तीन दिन से अप्रेल के महिने में बेमौसम की जोरदार बारिश और धूल भरी आंधीयों से यह तो साबित हो ही गया है कि भगवान सब देख रहा है ! कुछ तीन चार महिने पहले कि बात ही थी कि राजसमन्द के आस पास के गांव वाले किसान वगेरह लोगों ने सिंचाई हेतु उचित पानी दिये जाने के बावजुद भी एक और पाणेत (सिंचाई) की मांग की थी । और नगरपालिका प्रशासन के ना मानने ले बावजूद किसान लोगों के द्वारा हाथों में गेंती, फावडे, कूंट, लट्ठ आदि हथियारों सहित शहर को बन्द करवाने का आव्हान किया गया था । शहर बन्द करवाया भी गया, और लडाईयां भी हुई ।

प्रशासन व राजसमन्द के स्थानिय निवासियों के सामने उनका विद्रोह सिर्फ पानी के लिए था, वहीं पर राजसमन्द के स्थानिय निवासी यह चाहते थे कि उचित पानी झील में ही रहे ताकि झील का सौन्दर्य बना रहे साथ ही स्थानिय पानी कि आपुर्ती में भी व्यवधान ना हो पर …..

अब उन लोगों की फसल पक कर एकदम तैयार खडी थी, बस कटाई ही बाकी थी कि उपर वाले ने भी एसा चक्कर चलाया कि उन लोगों को रुपये की अठ्न्नी भी नहीं मिल पा रही है । इसी लिये कहते हैं कि [Read more →]

→ 2 टिप्पणींयांटैग्सः ····

जमाना जब दूरदर्शन का राज चलता था !

March 26th, 2008 · तकनिकी, नई खबरें

 आज के टी.वी. चैनलों की जंग के जमाने में हर कोई नया दिखाना चाहता है, कोई चेनल अपने दर्शको को सस्पेंस की कहानिया बता रहा है तो कोई सनसनीखेज न्युज या स्टींग आपरेशन बता रहा है, हर किसी को अपनी टी.आर. पी. बढ़ाने कि फिक्र है । कोई चेनल भुत पिशाच, डायन आदि की डरावनी कहानिया बयां कर रहा है तो कोई तन्त्र मन्त्र व साधना के बारे में बता रहा है । शव साधना, शमशान, भुत बंगला, पुरानी हवेली, डराने मुखौटे ‌और इस तरह की बातों के अलावा जेसे इन चैनल वालों के पास कुछ भी नहीं बचा है ।

हर किसी चीज को भुना रहे हें वे, कहने का मतलब ये है कि जो भी बिकता है वो बेचो, जमाना डिमान्ड और सप्लाई का है । कोमेडी के नाम पर भद्दी और द्विअर्थी संवाद कहे जा रहे हैं फिल्मों और नाटकों मे और नृत्य के नाम पर ना जाने कैसा भोंडापन दिखाया जा रहा है, । साथ ही एक और नई तलाश शुरु हई है वह हे आईडियल टेलेन्ट की खोज कौन है जो सबसे बेस्ट नर्तक, गायक या तेज दिमाग वाला है ।

एक जमाना वह भी था, जब दुरदर्शन का सिक्का चलता था, बोले तो राज चलता था उस जमाने में तब दुरदर्शन का । बहुत सारे सिरियल हमें क्या पूरे जमाने को पसंद थे जेसे महाभारत, हम लोग, कहां गए वो लोग, नुक्कड, मालगुडी डेज, रामायण, जंगल बुक, डिस्कवरी आग इन्डिया और चित्रहार । [Read more →]

→ 6 टिप्पणींयांटैग्सः ····

जस्सुबेन जयन्तिलाल जोशी V/s अनजान

March 25th, 2008 · आपबीती, उलझन, फिल्म रिव्यु

पिछले सात दिन में दो तीन बार मेनें NDTV र आने वाला एक धारावाहिक जस्सुबेन जयन्तिलाल जोशी देखा, उसमें एक पात्र है । जसुबेन का चश्मेवाला बडा लडका जो पेशे से टीचर है ‌और कविताएं लिखना उसका शौक है । अपने आप को प्रसिद्धी पाते हर कोई देखना चाहता है और वह भी एसा ही सोचता है । एक दिन अखबार पढ़ते हुए वह अपना नाम देखता है, अखबार में लिखा होता है कि उसने बहुत अच्छा काम किया है और किसी को अस्पताल पहुंचाने में मदद की । वास्तविकता में उस शख्स नें जिन्दगी में सिवाय दुसरों को लेक्चर देने के कोई काम नहीं किया होता है । थोडी ही देर में घर वालों को पता चल जाता है वह डींगे हांक रहा था । फिर आती है जस्सुबेन एक टिपीकल गुजराती परिवार की मुखिया महिला के लीड रोल में और अपने बडे बच्चे को बहुत खरीखोटी सुनाती है उस दिन । बाद में बच्चे व मां को यानी जसुबेन को फील होता है कि एसा नहीं होना चाहिए था । फिर जसुबेन का लडका इस बात से सीख लेता है, कुछ कर के दिखाएगा ।

जाने क्युं एसा लगा की ये सब मेरी ही जिन्दगी का आइना है । अपने राम भी एसे हीं है , कुछ काम धाम कुछ करना है नहीं, सुबह सबसे लेट उठना, एक भी काम खुद नहीं करना, सब काम दुसरों के भरोसे । सिर्फ और सिर्फ हुकुम चलाना आता है, कि ये लाओ वो लाओ । [Read more →]

→ अब तक कोई टिप्पणीं नहींटैग्सः ····

राजसमन्द के हिन्दी साइट को मिला 2 PR

March 22nd, 2008 · तकनिकी

ढ़ेर सारे चाहने वालों की बदौलत धीरे धीरे यह राजसमन्द का साईट भी प्रसिद्धी को छू रहा है ।अभी कुछ दिन पहले ही इसे गुगल का पेज रेन्क 2 मिला है, यह बडी खुशी की बात है । गुगल का पी. आर. एक तरह का पैमाना है वेबसाइट्स व ब्लाग के लिए । जिसका जितना ज्यादा पी. आर. उसका उतना ज्यादा वेल्यु ।

साथ ही रोजाना के आने वाले विजीटर भाई बहनों की संख्या में भी ठीक ठाक वृद्धि हुई है । पहले के मुकाबले अब रोजाना ज्यादा लोग इस [Read more →]

→ 1 टिप्पणींटैग्सः ·

मोबाइल मेनिया

March 21st, 2008 · उलझन, तकनिकी

गांव गांव शहर शहर में मोबाइल क्या हुए आफत हो गई हमारे जैसे लोगों के लिए तो । शांति से कोई जीने नहीं दे रहा है, और जहां देखो वहां कोई ना कोई जान का दुश्मन जोर जोर सेः हेलो, हेलो आवाज नहीं आ रही है, जरा तेज बोलो,, कह कर परेशान किये जा रहा है और अपने राम जी के सब्र का इम्तिहान लिए जा रहा है ।

ये सब किया इन गुजराती बंधुओं का है जिन्होने 500 – 500 रपये में लोगो को मोबाइल फोन पकडा दिए, अब ठेले वाला हो या करोडपति इस मोबाइल के मामले में सब एक ही श्रेणी में आ गए । इस पर से बाजार में हर कंपनी के प्रतिदिन नए नए मोबाइल उपकरण आ रहे, लोग काम काम रहे है और फालतु की बातें ज्यादा कर रहे हैं । तेज आवाज वाली व उलजुलुल रिंगटोन्स का प्रचलन इतना हो गया है कि किसी शोक सभा या सत्संग में बैठे हुए लोगों के बीच जब तेज आवाज में लोगों की तन्द्रा भंग करती हुई जलक दिखला जाया कुत्ते की भों भोंवाली रिंगटोन बज उठती है [Read more →]

→ 3 टिप्पणींयांटैग्सः ····