Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 1

Laugh India Laugh टी.वी. शो में अपने कवि सुनिल के ठहाके

July 21st, 2012 · शख्सियत

हमारे शहर काकंरोली के युवा हास्य कवि अब लाईफ ओके चैनल के Laugh India Laugh शो में अपनी अदाकारी दिखा रहे हैं | ये बहुत ही सराहनीय प्रयास हैं | उल्लेखनीय है कि युवा कवि सुनिल व्यास नें पहले भी अपनी हास्य कविताओं से बडे गंभीर विषयों पर भी अपनी लेखनी चलाई हैं इसी संदर्भ में कई देश विदेशों की यात्राएं भी कर चुके हैं |

कवि सुनिल, कवि होने के साथ ही अच्छे अभिनेता, संगीत, गायन वादन आदि में भी रुची रखते हैं, मंच संचालक और जागरुक नागरिक भी हैं, जो समाज में हो रही हलचल और बातों पर अपना विशिष्ट नजरिया रखते हैं | आप ये विडीयो देखिए और उन्हें वोट भी किजीयेगा ताकि वे ज्यादा से ज्यादा समय तक टी. वी. पर छाये रहें औ‌र उन्हे तगडी कामयाबी मिले | कहते हैं कि “नो बिजनस इज लाइक शो बिजनेस” | और शो बिजनेस में कांकरोली राजसमन्द से निकले, इस तरह की प्रसिद्धि पाने वाले सुनिल जी पहले कवि हैं |

 

फोटो साभारः https://www.facebook.com/kavisunilvyas

→ अब तक कोई टिप्पणीं नहींटैग्सः ····

मम्मी और पिंटू

June 20th, 2012 · हास्य

सुबह के आठ बजे हैं, बेटा कुछ देर पहले नींद से उठा ही है |

मम्मीः ले बेटा पोया वण ग्या है, खई ले |
पिंटूः अरे में तो उठ्यो ही तो हूं न, अबाणू सुबे पेली पोया, और हाल तो में दातन भी नी किदो हैं |
अलग सा ही मुंह बनाते हुए मम्मी बोलीः मियां जी, मियां जी दुबला क्युं ? ……………… टड घणी | अरे में केई री हूं खई ले पोया, नियम कायदा उं कई नी वे … !
बेटा पिन्टू आश्चर्य से मम्मी का मुंह देखता रह जाता है |

→ अब तक कोई टिप्पणीं नहींटैग्सः ···

पेट्रोल के दाम बढ़े, जनता त्रस्त, राजसमंद बंद का आव्हान

May 31st, 2012 · कांकरोली, नई खबरें

पेट्रोल के बढ़े दामों से लाचार जनता नें राजसमंद बंद का आव्हान किया हैं, और यहां हमारे भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता 31 मई को बंद, सफल बनाने में जुटे हुए हैं | सात आठ रुपये पेट्रोल पर एकदम से बढ़ने से जनता की तो कमर ही टूट गई हैं | सब्जी, कपडे कुछ भी सामान लाना हो आजकल छोटे नोटों से तो काम ही नहीं चलता | जनता अब महंगाई के आगे लाचार है और लगभग लाश के जैसी बन चुकी हैं, कोई कितना ही मारे, पीटे या चोट पहुंचाये पर दर्द कुछ होता ही नहीं हैं, क्योंकि सभी संवेदना शून्य हो चुके हैं, सबको पता हैं कि पेट्रोल पर बढ़े भाव फिर कम नहीं हो सकते |

→ अब तक कोई टिप्पणीं नहींटैग्सः ···

भर्ती और दंगे

May 22nd, 2012 · उलझन

सेना भर्ती और दंगे :

हमारे देश के राज्यों और प्रदेशों में सेना या पुलिस की भर्ती के दौरान दंगे होना अब एक बडी आम सी समस्या हो चुकी हैं और हाल ही राजस्थान में हुए दंगे, लूटपाट, आम जनता के साथ खींचातानी और सरकारी सम्पत्ती को जो नुकसान पहुंचाया गया हैं, वह असहनीय ही था पर अब ये जो हो चुका हैं तो हो गया हैं, अब पीछे कितने भी लट्ठ जमीन पर पटको कुछ होने जाने वाला नहीं हैं |

पर कुछ मिलाकर ये भर्ती प्रक्रिया के दौरान होने वाले हादसे, दंगे इनके लिये जिम्मेदार हैं कौन ? हम ही तो हैं ना और या फिर सरकार हैं, जो पुख्ता बंदोबस्त नहीं कर पाती हर बार दंगे होते ही हैं, आखिर में युवा तो युवा हैं ही उनकी नौकरी किसी सेटिंग वाले के साले बहनोई को दे दी जाए तो गुस्सा तो होना लाजमी हैं ना, फिर अपने देश में अंदरुनी सेटिंग का भी तो कोइ तौड नहीं हैं |कोई लाख नियम कायदे बना डाले पर हमारा तत्रं ही ए॓सा ही की कहीं ना कहीं कुछ रसूखदारों के लिये गुंजाइश हो ही जाती हैं |

कोई युवा चाहे हर चीज से पास हो जाये पर कहीं ना कहीं कोई जोलझाल कर के, उसकी बजाय किसी ए॓से को नौकरी दे दी जाती हैं जो किसी रसूख वाले का कुछ लगता हैं या उपर से फोन करवा कर आया हैं, या जिसने बडे अमाउंट में किसी को पैसे खिलाये है |

पर पुलिस और सेना के पदों की भरती में होने वाली धांधली को रोकना होगा, हमारे युवा पथभष्ट हो रहे हैं और नतीजा दंगे, लूटपाट, आगजनी और ना जाने क्या क्या | हमारी सरकार को कुछ ना कुछ ए॓सा करना होगा कि कोई भी युवा प्रार्थी जो नौकरी के लिये आया हैं वो ए॓सी गंदी हरकत ना कर पाये |

→ अब तक कोई टिप्पणीं नहींटैग्सः ·····

सिंघम

May 6th, 2012 · कांकरोली

मेरा एक अजीज मित्र कुछ सालों के बाद आया | मिलने पर हमें बडी खुशी हुई और कुछ खासो आम बातें करने के बाद हमने उन्हें पूछा की और सुनाओ क्या नया जूना चल रहा हैं | मित्र ने कहा की अपनी कांकरोली बिलकुल नहीं बदली दोस्त | यहां आते ही हर गली कुचे में घुम कर आया हूं, पर ये शहर अभी भी वैसा ही नियन्त्रणहीन और अविकसित हैं | हां पर एक बात जरुर हैं इस बार लगता हैं कोई सिंघम आया हैं, हमारे शहर के ट्रेफिक पुलिस के जवान हर नुक्कड चौराहों पर मुस्तैद लग रहे हैं | बडे आश्चर्य की बात हैं, सिर्फ दो तीन किमी की एक सडक से जुडा छोटा सा शहर पर इतनी सुव्यवस्थित यातायात की व्यवस्थाएं |

→ अब तक कोई टिप्पणीं नहींटैग्सः ···