Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 2

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

June 25th, 2009 · 14 टिप्पणीयां · इतिहास के पन्नो से

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती :

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है ।

मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है ।

आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है ।

मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में ।

मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो ।

जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम ।

कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती !
:- “निराला”

जाने क्यों मुझे बचपन में पढ़ी हुई यह “निराला” जी द्वारा रचित कविता बार बार कुछ नया करने को प्रेरित करती है, कुछ करने के बाद रुकना नहीं , सिर्फ और सिर्फ मेहनत करते जाओ, बस यह कहती है !

टैग्सः ·········

14 टिप्पणीयां ↓

  • समीर लाल ’उड़न तश्तरी’ वाले

    रचयिता का नाम नहीं लिखा, शायद हरिवंश राय बच्चन जी की है. आभार इसे प्रस्तुत करने का..गर रचयिता का नाम ना मालूम हो तो यह लिख देना कि रचनाकार का नाम ज्ञात नहीं है, अच्छा माना जाता है और लोगों को संशय भी नहीं रह जाता कि आपने रची है.

  • hitender

    very inspiring poem to teach struggle againt your problem

  • vijay

    koshish karne valo ki khabhi har nai hoti

    koshish ek chbi hai jo chunoti bhare tanlo ki chabi hai .

    koshish kabi bhi bekar nai jati hai . bhale hia der se hia shia .
    ko = hamko, shis = shiksha , artharta kucha karne ki shiksha .

    vijay

  • dr.asshish nagar

    bhartiya sahitya ka sansar me koi sani nahi hai. vivekshil kaviyon ki prernaspad kritiyon ne sada se hi yuva man ko utsahit kiya hai. nirasha ke doobte palon me yadi is prakar ka koi dridh avalamban prapt ho jaye to hatash antahkaran me nootan oorja ka sanchar kar deta hai. vartmaan yauvan anant sambhavnaen apne bhitar samete baitha hai, parantu shayad apni kshmataon se abhi poorntah parichit nahi hai. kvita ka hona tabhi saphal hai jab vo kisi ke bhitar navprabhat ka sooryoday kar sake.

  • Prakash Chandra sahu

    Iske aage ka line mai bolta hu-

    rah me sagar aur parwate anshkhya hai,
    kadi mehnat aur sayanm se manjil ko pata hai tufano se takrakar jo aage badta jata hai,
    uski raho me mushkile diwar nahi hoti,
    Koshish karne walo ki har nahi hoti…

  • rajesh

    sir ji ye kavita niralaji ki nahi bachhanji ki hai

  • Aashirwad

    chunoti ko suvikaar karo
    na kabhi kisi se daro
    Parvat ko uta loge tum hai viswas agar
    pigla do ge chattano ko nahi hai ahankar agar

  • Aashirwad, Ashok Nagar (PFC)

    Mann main koi darr hai agar
    dekh charo aur koi hai agar
    pyar se paa lega manzil tu
    paas ho hamsafar agar

  • nirmal kumar sharma

    Supream court ne jo S I T banaya hai uske liye unhe samast bhartiy janta ka satsah dhanybad

  • RAJESH

    YE KAVITA SHRI HARIWANSRAI BACHAN KI HI HAI YE KAVITA MERI FAVOURIT HAI

  • shweta

    ish kavita main jine ki umaid hai

  • जितेन्द्र कुमार

    very good

  • Jashan Wadhwa

    Hello there is a good idea to get the best of luck with the best way of life is a good idea for a few days of the best way is to get the latest version is available to you and your friends and colleagues in my opinion of the day of Christmas a few days to go back to you by your own home and abroad and the other side of what I can get the best price for that perfect for a while now and again in case of a new member of your choice to the right to change the world of good quality of the day of Christmas a few days to go back to you by your own home and abroad and the other side of things to come to you by your own home and abroad for the next few months ago via the link below for more details on how to use the search box to the right thing to say about the real world is a great time in the world of work to the

  • MOTILAL PUROHIT

    koshish karnevalon ki har nahin hoti asal me yah kavita kinki likhi hui hai suryakant tripathi “nirala” ya harivanshrai bachchan iska khulasa hona chahiye

अपनी टिप्पणी करें, आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, आप हिन्दी या अंग्रेजी में अपनी टिप्पणी दे सकते हैं, साथ ही आप इस वेबसाईट पर और क्या क्या देखना चाहेंगे, अपने सुझाव हमें दें, धन्यवाद