Rajsamand District, Rajasthan

राजसमन्द जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल, ए॓तिहासिक पर्यटन स्थल, मंदिर, किले, मुख्य त्योहार एवं व्यवसाय आदि की विस्तृत जानकारी, साथ ही हर घटना को देखने का लेखक का अपना व्यक्तीगत व्यंग्यात्मक नजरिया आज की इस तिरछी दुनिया के सन्दर्भ में…

Rajsamand District, Rajasthan header image 2

हां, पिक्चर में रोता हैं………..

October 15th, 2012 · अब तक कोई टिप्पणी नहीं की गई · उलझन

वाकई में बहुत अदभुत हैं किसी का भावुक होना…में भी हूं | अचानक मन में भावो के उत्पन्न होते ही व्यक्ति उनके अनुसार रिएक्ट करने लगता हैं, रोना , हंसना, खुश या दुःखी हो जाना, ये सारे भाव ही तो हैं जो हमें दूसरो से अलग बनाते हैं | जहां तक में समझता हूं, भावुक होना कोई बुरी बात नहीं हैं…. किसी किसी को टी.वी. या पिक्चर पर भावुक दृश्य आने पर रोना आ जाता हैं, या उनकी सुबह के किसी खराब सपने का बुरा असर दिन भर उन पर हावी रहता हैं, वे विचलित से रहते हैं, किसी शांति की तलाश में….तो क्या हुआ |

पर आज जमाना कुछ और ही हैं अर्थवादी युग हैं हर बात को पैसे से तोला जाता हैं, भागमभाग हैं एक तरह की कभी ना खत्म होने वाली रेस लगी हुई हैं | सो आज के जमाने में लोगो के दिल मे भावुक लोगों के प्रति कद्र नहीं होती, वे समझते हैं इनका कोई भविष्य नही होता हैं, या ये लोग दिल के बडे कमजोर होते हैं, जिंदगी में बडे अहम फैसले नहीं ले पाते हैं, अस्त व्यस्त से अपने आप में ही खोये रहते हैं , या कुछ और …………………पर किसने कहा हैं इस तरीके से जजमेंटल होने वाले लोगो से, कि आप दूसरों के बारे में ए॓से सोचते हुए अपने व्यक्तिगत विचार उन्हे बताओ |

आज जो लोग अत्यधिक भावुक हैं उन्हे अपने आप को बदलने में वक्त लगता हैं और अगर वे ना भी बदले तो क्या, किसी और की ए॓सी की तैसी क्युं होती हैं ? ये बात समझ में नहीं आती हैं |

टैग्सः ····

अब तक कोई भी टिप्पणी नहीं ↓

अपनी टिप्पणी करें, आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं, आप हिन्दी या अंग्रेजी में अपनी टिप्पणी दे सकते हैं, साथ ही आप इस वेबसाईट पर और क्या क्या देखना चाहेंगे, अपने सुझाव हमें दें, धन्यवाद